Yeh Mohabbat Yeh Pyar Sabke Bas Ki Baat Nahi -Shayari Ghazal

Ghazal Shayari -54

Sad Ghazal Shayari by Guest: Fatima Khan


Yeh Mohabbat Yeh Pyar Sabke Bas Ki Baat Nahi...


Yeh-Mohabbat-Yeh-Pyar-Sabke-Bas-Ki-Baat-Nahi-Shayari-Ghazal



Author:
Author
Fatima on Facebook
"Many Thanks for your Shayari Submission."
Visitor, you can also Submit Your Own Shayari Here.


Jo Toota Tha Ek Taaluq Uske Kab Aap Zimedaar The,
Maante Hain Jaanam Hum Khud Hi Qasoorwar The,

Jab Mayasar The To Qadar Nahi Ki Humne,
Waqt Ne Bataya Ke Hum Bas Yunhi Sogwar The,

Yeh Mohabbat Yeh Pyar Sabke Bas Ki Baat Nahi,
Wo Kasmen Wo Vaade Sab Ke Sab Bekaar The,

Humne To Jaanane Ki Koshish Hi Na Ki Thi Kabhi,
Aapki Us Haan Ke Pichhe Bhi Kitne Inkaar The,

Ek Hamen Hi Na Aya Insanon Ko Padhney Ka Hunar,
Aap To Humse Peechlay Kayi Dinon Se Bezaar The,

Aaj Dil Apne Faislay Pe Mutmayin Nazar Aaya Hai,
Aaj Jaana Ki Hum To Aapke Peechay Bas Yunhi Khuwar The...



Must Read:- Ik Tere Aane se Pehle Ik Tere Jane ke Baad | Sad Shayari






लम्बी शायरी ग़ज़ल -54

सेड ग़ज़ल शायरी द्वारा: फातिमा खान


यह मोहब्बत यह प्यार सबके बस की बात नहीं...


जो टूटा था एक तालुक़ उसके कब आप ज़िम्मेदार थे,
मानते हैं जानम हम खुद ही क़सूरवार थे,

जब मयसर थे तो क़दर नहीं की हमने,
वक़्त ने बताया कि हम बस यूं ही सोगवार थे,

यह मोहब्बत यह प्यार सबके बस की बात नहीं,
वो कसमें वो वादे सब के सब बेकार थे,

हमने तो जानने की कोशिश ही न की थी कभी,
आपकी उस हाँ के पीछे भी कितने इनक़ार थे,

एक हमें ही न आया इंसानों को पढ़ने का हुनर,
आप तो हमसे पिछले कई दिनों से बेज़ार थे,

आज दिल अपने फैसले पे मुतमईन नज़र आया है,
आज जाना की हम तो आपके पीछे बस यूंही खुवार थे...


1 comment:

  1. साकेत श्रीवास्तवSeptember 10, 2019 at 9:37 PM

    वाह क्या बात है।शानदार

    ReplyDelete

Copyright: @jaykc86. Powered by Blogger.