Na Rukna Chahti Hoon Na Mudna Chahti | Simple Ghazal Shayari

Ghazal Shayari -93

Simple Ghazal Shayari by Guest: Rajalaxmi Sahoo


Na Rukna Chahti Hoon Na Mudna Chahti Hoon...


Na-Rukna-Chahti-Hoon-Na-Mudna-Chahti-Simple-Ghazal-Shayari


Author:
Author
"Many Thanks for your Shayari Submission."
Visitor, you can also Submit Your Own Shayari Here.


Na Rukna Chahti Hoon Na Mudna Chahti Hoon,
Bas Apne Dam Pe Aage Badhna Chahti Hoon,

Na Kisi Ki Sunti Hoon, Na Kisi Ko Sunayi Deti Hoon,
Bas Apni Manzil Ko Apne Kareeb Dikhayi Deti Hoon,

Yun To Raaston Ka Faisla Bhi Nahin Kar Paati Hoon,
Bas Ek-Ek Kar Kadam Manzil Ki Aur Badhati Jaati Hun,

Na Kismat Ki Galti Na Haalat Ko Ilzaam Deti Hoon,
Apni Takdeer Ka Leekha Khud Likhti Hun Or Sabko Yahi Paigam Deti Hun,

Na Kisi Se Shikayat Or Na Koi Umeed Rakhti Hoon,
Jivan Ki Is Jung Me Honsale Ko Apne Sabse Kareeb Rakhti Hoon,

Na Rukna Chahti Hoon Na Mudna Chahti Hoon,
Khud Ko Pankh Laga Ke Ek Nayi Udaan Bharna Chahti Hoon...



Must Read:- Main Musafir Tha Chala Ja Raha Tha | Simple Ghazal Shayari





लम्बी शायरी ग़ज़ल -93

सिंपल ग़ज़ल शायरी द्वारा: राजलक्ष्मी साहू


ना रुकना चाहती हूँ ना मुड़ना चाहती हूँ...


ना रुकना चाहती हूँ ना मुड़ना चाहती हूँ,
बस अपने दम पे आगे बढ़ना चाहती हूँ,

ना किसी की सुनती हूँ ना किसी को सुनाई देती हूँ,
बस अपनी मंजिल को अपने करीब दिखाई देती हूँ,

यूँ तो रास्तों का फैसला भी कर नहीं पाती हूँ,
बस एक एक कर कदम मंज़िल की और बढाती जाती हूँ,

ना किस्मत की गलती ना हालात को इलज़ाम देती हूँ,
अपनी तक़दीर का लेखा खुद लिखती हूँ और सबको यही पैगाम देती हूँ,

ना किसी से शिकायत और ना कोई उम्मीद रखती हूँ,
जीवन की इस जंग में होंसले को अपने सबसे करीब रखती हूँ,

ना रुकना चाहती हूँ ना मुड़ना चाहती हूँ,
खुद को पंख लगा के एक नयी उड़ान भरना चाहती हूँ...


No comments:

Post a Comment

Copyright: @jaykc86. Powered by Blogger.
//]]>